Skip to main content

Featured

सबरीमाला मंदिर में महिलाओं का प्रवेश वर्जित क्यों है?

भगवान अय्यप्पा स्वामी Ayyappa Sharnam   सबरीमाला मंदिर भगवान अय्यप्पा को समर्पित है और हर साल करोड़ों की संख्या में श्रद्धालु इस मंदिर में दर्शन कर अपनी मनोकामनाएं पूर्ण करवाते है। श्री भगवान अय्यप्पा स्वामी की भक्ति में अटूट आस्था देखने को मिलती है। भगवान अय्यप्पा स्वामी को हरिहर का पुत्र माना जाता है अर्थात इनको भगवान शिव और विष्णु स्वरूपनी मोहिनी का पुत्र माना जाता है।  हर मंदिर की अपनी परंपराएं होती है। जिनका सम्मान प्रत्येक श्रद्धालु को करना चाहिए। सबरीमाला के अय्यप्पा स्वामी मंदिर में भी कुछ नियम है जिनको लेकर कई विवाद सामने आ चुके है। सबरीमाला मंदिर Sabarimala Temple  केरल के पथानामथिट्टा ज़िले में स्थित सबरीमाला मंदिर में प्रजनन आयु की महिलाओं और लड़कियों को पारंपरिक रूप से पूजा करने की अनुमति नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यहां विराजमान भगवान अयप्पा को 'चिर ब्रह्मचारी' माना जाता है। इस वजह से रजस्वला महिलाएं मंदिर में उनके दर्शन नहीं कर सकतीं। मान्यता है कि मासिक धर्म के चलते महिलाएं लगातार 41 दिन का व्रत नहीं कर सकतीं, इसलिए 10 से 50 साल की मह

श्रीराम ने राम सेतु क्यों तोड़ा था ?

श्री राम ने सेतु क्यों तोड़ दिया ?

वाल्मीकि रामायण में स्पष्ट रूप से उल्लेख मिलता है की देवी सीता का पता लगने के पश्चात जब भगवान श्री राम समुद्र पर सेतु बांधने को उद्यत हुए तब समस्त वानर और भालुओ ने राम सेतु का निर्माण करने में भगवान श्री रामचंद्र की सहायता की और देखते ही देखते लंका तक एक सेतु का निर्माण कर दिया।  लेकिन जब श्रीराम विभीषण से मिलने दोबारा लंका गए, तब उन्होंने रामसेतु का एक हिस्सा स्वयं ही तोड़ दिया था। ये बात बहुत कम लोग जानते हैं। रामसेतु स्वयं भगवान श्रीराम ने अपने हाथों से थोड़ा और उन्होंने रामसेतु को किन परिस्थितियों में थोड़ा इन समस्त बातों की जानकारी सृष्टि खंड की एक कथा में  मिलती है।
पद्म पुराण के अनुसार, अपने वनवास को पूर्ण करने के पश्चात भगवान श्री राम जब अयोध्या में राज कर रहे थे तब एक दिन अचानक उन्हें रावण के छोटे भाई विभीषण की याद आई और उनके हृदय में विभीषण को लेकर यह चिंता उत्पन्न हुई कि रावण के मरने के बाद विभीषण किस तरह लंका का राज्य संभाल रहे होंगे। विभीषण सकुशल तो होगा? उसे कोई चिंता या परेशानी तो नहीं हो रही होगी लंका का राज्य संभालने में? जब भगवान श्री राम विभीषण की चिंता में मग्न थे उसी क्षण भगवान श्री राम के छोटे भाई भरत जी का आगमन हो गया। 
भरत के पूछने पर श्रीराम ने उन्हें पूरी बात बताई। ऐसा विचार मन में आने पर श्रीराम ने लंका जाने का विचार किया। भरत भी उनके साथ जाने को तैयार हो जाते हैं। अयोध्या की रक्षा का भार लक्ष्मण को सौंपकर श्रीराम व भरत पुष्पक विमान पर सवार होकर लंका जाते हैं।
जब श्रीराम व भरत पुष्पक विमान से लंका जा रहे होते हैं, रास्ते में किष्किंधा नगरी आती है। श्रीराम व भरत थोड़ी देर वहां ठहरते हैं और सुग्रीव व अन्य वानरों से भी मिलते हैं। जब सुग्रीव को पता चलता है कि श्रीराम व भरत विभीषण से मिलने लंका जा रहे हैं, तो वे उनके साथ हो जाते हैं। 
रास्ते में श्रीराम भरत को वह पुल दिखाते हैं, जो वानरों व भालुओं ने समुद्र पर बनाया था। जब विभीषण को पता चलता है कि श्रीराम, भरत व सुग्रीव लंका आ रहे हैं तो वे पूरे नगर को सजाने के लिए कहते हैं। विभीषण श्रीराम, भरत व सुग्रीव से मिलकर बहुत प्रसन्न होते हैं।
श्रीराम तीन दिन तक लंका में ठहरते हैं और विभीषण को धर्म-अधर्म का ज्ञान देते हैं और कहते हैं कि तुम हमेशा धर्म पूर्वक इस नगर पर राज्य करना। विभीषण को धर्म का ज्ञान देने के पश्चात जब भगवान श्री राम अयोध्या लौटने के लिए पुष्पक विमान पर आरूढ़ हुए तब विभीषण ने भगवान श्री रामचंद्र से प्रार्थना की और कहा प्रभु आपने जो ज्ञान मुझे दिया है उसी ज्ञान के अनुसार में अपना राज्य धर्म निभाऊंगा परंतु मेरे मन में एक चिंता और शंका है। प्रभु जब-जब आप के बनाए हुए सेतु से मनुष्य आकर मुझे पीड़ा पहुंचाने लगेंगे उस वक्त मुझे क्या करना होगा। 
विभीषण के ऐसा कहने पर श्रीराम ने अपने बाणों से उस सेतु के दो टुकड़े कर दिए। फिर तीन भाग करके बीच का हिस्सा भी अपने बाणों से तोड़ दिया। इस तरह स्वयं श्रीराम ने ही रामसेतु तोड़ा था।
अतः हम कह सकते है की अपने भक्त विभीषण की प्रार्थना पर स्वयं प्रभु श्री राम ने राम सेतु को तोड़ा था।

Comments