Skip to main content

Featured

सबरीमाला मंदिर में महिलाओं का प्रवेश वर्जित क्यों है?

भगवान अय्यप्पा स्वामी Ayyappa Sharnam   सबरीमाला मंदिर भगवान अय्यप्पा को समर्पित है और हर साल करोड़ों की संख्या में श्रद्धालु इस मंदिर में दर्शन कर अपनी मनोकामनाएं पूर्ण करवाते है। श्री भगवान अय्यप्पा स्वामी की भक्ति में अटूट आस्था देखने को मिलती है। भगवान अय्यप्पा स्वामी को हरिहर का पुत्र माना जाता है अर्थात इनको भगवान शिव और विष्णु स्वरूपनी मोहिनी का पुत्र माना जाता है।  हर मंदिर की अपनी परंपराएं होती है। जिनका सम्मान प्रत्येक श्रद्धालु को करना चाहिए। सबरीमाला के अय्यप्पा स्वामी मंदिर में भी कुछ नियम है जिनको लेकर कई विवाद सामने आ चुके है। सबरीमाला मंदिर Sabarimala Temple  केरल के पथानामथिट्टा ज़िले में स्थित सबरीमाला मंदिर में प्रजनन आयु की महिलाओं और लड़कियों को पारंपरिक रूप से पूजा करने की अनुमति नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यहां विराजमान भगवान अयप्पा को 'चिर ब्रह्मचारी' माना जाता है। इस वजह से रजस्वला महिलाएं मंदिर में उनके दर्शन नहीं कर सकतीं। मान्यता है कि मासिक धर्म के चलते महिलाएं लगातार 41 दिन का व्रत नहीं कर सकतीं, इसलिए 10 से 50 साल की मह

अंधकार से प्रकाश की ओर: स्वामी परमानन्द गिरी जी महाराज

परम पूज्य महामंडलेश्वर युगपुरुष स्वामी श्री परमानंद गिरि जी महाराज हम सभी को यह समझाने का प्रयास कर रहे हैं कि अंधेरा प्रकाश से ही जाता है अर्थात अगर अंधेरे को हटाना है तो हमें प्रकाश करना पड़ेगा परंतु उस प्रकाश को करने के लिए हमें कौन-कौन से कार्य करने पड़ेंगे जिससे हमेशा के लिए एक शाश्वत प्रकाश हमारे मार्ग को प्रकाशित करता रहे।

अंधकार से प्रकाश 

मनुष्य को जो भी कष्ट, जो भी पीड़ा होती है वह केवल इस शरीर के होने की वजह से है। अगर शरीर ना होता तो हमें कोई पीड़ा भी ना होती। जब तक शरीर है तब तक पीड़ा है जब शरीर ना होगा तो हमें पूर्ण आनंद होगा अर्थात हमें कभी भी मृत्यु से डरना नहीं चाहिए क्योंकि मृत्यु परमानंद तक प्राणी को पहुंचाती है अर्थात परमेश्वर में विलीन करके हमें ईश्वर के तत्व में समाहित कर जाती है। 
वेदांत वचनो के प्रकांड विद्वान महाराज श्री के अमृत वाणी से हम सभी के अंतर्मन में उठ रहे अनेको द्वंदों का छेदन होता रहा है और आज भी महाराज श्री यही करने का प्रयास कर रहे हैं। 
हमें पूर्ण आशा है कि उनके अमृत वचनों को सुनकर आप सभी के मन अर्थात हृदय के तमाम संशयो के जाल टूट चुके होंगे और आप सब परमानन्द जी महाराज के बताए हुए मार्ग पर निर्भय होकर चल सकेंगे। 
स्वामी परमानंद गिरि जी महाराज हम सभी को यह बताने का प्रयास कर रहे हैं कि अगर किसी से प्रेम करना है तो उससे करना चाहिए जो शाश्वत है, जो नित्य है, जो सदा से है और सदा रहेगा परंतु मनुष्य प्रेम ही संसार के प्राणियों से करता है जो कि नश्वर हैं। 
जब नश्वर से प्रेम करोगे तो कष्ट और दुख ही मिलेगा। स्वामी जी ने मीराबाई के भजन कि कुछ लाइनों के माध्यम से हम सभी को समझाने का प्रयास किया कि मीरा बाई कहती थी कि "ऐसे वर को क्या वरु जो जन्मे और मर जाये। " 

1. प्रकाश की शक्ति

प्रकाश सदैव आशा और रोशनी का प्रतीक रहा है। इसमें अंधकार को दूर करने और हमारे जीवन में स्पष्टता लाने की क्षमता है। अंधकार को समाप्त करने के लिए हमें अपने भीतर प्रकाश का दीपक जलाना होगा।

2. सकारात्मकता को अपनाना

जब हम जीवन के सकारात्मक पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करना चुनते हैं, तो हम अनिवार्य रूप से प्रकाश का दीपक जला रहे होते हैं। सकारात्मक मानसिकता विकसित करके और अपने आप को उत्थानकारी प्रभावों से घेरकर, हम सबसे अंधकारमय परिस्थितियों में भी रोशनी ला सकते हैं।

3. दयालुता फैलाना

दयालुता के कार्य किसी के दिन को रोशन करने और उनके जीवन में प्रकाश लाने की शक्ति रखते हैं। चाहे वह एक साधारण मुस्कान हो, मदद करने वाला हाथ हो, या एक दयालु शब्द हो, ये छोटे-छोटे इशारे दूसरों पर गहरा प्रभाव डाल सकते हैं और सकारात्मकता का प्रभाव पैदा कर सकते हैं।

4. ज्ञान की तलाश

ज्ञान एक दीपक की तरह है जो हमारे मार्ग को रोशन करता है और हमें विकास और समझ की ओर मार्गदर्शन करता है। निरंतर ज्ञान की खोज करके और अपने क्षितिज का विस्तार करके, हम अपने भीतर प्रकाश का दीपक जला सकते हैं और दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

5. डर पर काबू पाना

डर अक्सर हमें अंधेरे में रखता है, हमें अपनी पूरी क्षमता तक पहुंचने से रोकता है। अपने डर का डटकर सामना करके और अपने आराम क्षेत्र से बाहर निकलकर, हम प्रकाश का दीपक जला सकते हैं और साहस और विकास से भरा जीवन अपना सकते हैं।

6. कृतज्ञता का विकास करना

कृतज्ञता एक शक्तिशाली उपकरण है जो हमारा ध्यान अंधकार से प्रकाश की ओर स्थानांतरित कर सकता है। प्रतिदिन कृतज्ञता का अभ्यास करके और अपने जीवन में आशीर्वाद को स्वीकार करके, हम संतुष्टि और प्रशंसा की भावना पैदा कर सकते हैं, अंततः अपने भीतर प्रकाश का दीपक जला सकते हैं।

7. दूसरों को प्रेरणा देना

प्रकाश का दीपक जलाने का सबसे प्रभावशाली तरीका दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करना है। व्यक्तिगत विकास और परिवर्तन की अपनी यात्रा को साझा करके, हम दूसरों को आत्मज्ञान की दिशा में अपने स्वयं के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित और सशक्त बना सकते हैं।

निष्कर्षतः अँधेरे को ख़त्म करने के लिए हमें सक्रिय रूप से अपने भीतर प्रकाश का दीपक जलाने का विकल्प चुनना होगा। सकारात्मकता को अपनाकर, दयालुता फैलाकर, ज्ञान की खोज करके, डर पर काबू पाकर, कृतज्ञता पैदा करके और दूसरों को प्रेरित करके, हम प्रकाश और आशा से भरी दुनिया बना सकते हैं।

Comments