Skip to main content

Featured

पौष मास पुत्रदा एकादशी व्रत कथा हिंदी | पौष मास पुत्रदा एकादशी महात्म कथा हिंदी

Putrada Ekadashi Vrat Katha In Hindi ॥ अथ पुत्रदा एकादशी माहात्म्य ॥ धर्मराज युधिष्ठिर ने पूछा- हे कृष्ण! अब आप पौष माह के व्रत के बारे में समझाइये। इस दिन कौन से देवता का पूजन होता है तथा क्या विधि है? इस पर श्रीकृष्ण बोले-हे राजन! पौष शुक्ल पक्ष की का नाम पुत्रदा एकादशी है। इसका पूजन विधि से करना चाहिये। इस व्रत में नारायण भगवान की पूजा करनी चाहिये। इसके पुन्य से मनुष्य तपस्वी, विद्वान और लक्ष्मीवान होता है। मैं एक कथा कहता हूं, सुनो। भद्रावती नगरी में सुकेतुमान राजा राज्य करता था। वह निपुत था। उसकी स्त्री का नाम शैव्या था । वह सदैव निपुती होने के कारण चिंतित रहती थी। इस पुत्रहीन राजा के पितर रो-रोकर पिंड लेते थे और सोचा करते थे इसके बाद हमें कौन पिंड देगा। इधर राजा को भी राज्य वैभव से भी संतोष नहीं होता था। इसका एकमात्र कारण पुत्र हीन होना था।  वह विचार करता था कि मेरे मरने पर मुझे कौन पिंड देगा। बिना पुत्र के पित्रों और देवताओं से उऋण नहीं हो सकते। जिस घर में पुत्र न हो वहाँ सदैव अंधेरा ही रहता है। इसलिये मुझे पुत्र की उत्पत्ति के लिये प्रयत्न करना चाहिये। पूर्व जन्म के कर्मों से

Swami Parmanand Giri Ji Maharaj- Motivational Speech Part 5

Swami Parmanand Giri Ji Maharaj- Motivational Speech Part 5

प्रिय मित्रों आज हम आप सभी के समक्ष परम पूज्य महामंडलेश्वर युगपुरुष स्वामी श्री परमानंद गिरि जी महाराज के द्वारा दिए गए बहराइच समागम के पांचवें प्रवचन के कुछ अंश लेकर प्रस्तुत हुए हैं जिसमें महाराज श्री हम सभी को यह समझाने का प्रयास कर रहे हैं कि अंधेरा प्रकाश से ही जाता है अर्थात अगर अंधेरे को हटाना है तो हमें प्रकाश करना पड़ेगा परंतु उस प्रकाश को करने के लिए हमें कौन-कौन से कार्य करने पड़ेंगे जिससे हमेशा के लिए एक शाश्वत प्रकाश हमारे मार्ग को प्रकाशित करता रहे।
स्वामी परमानंद गिरि जी महाराज अपने इस प्रवचन के माध्यम से हम सभी को यह बताने का प्रयास कर रहे हैं कि मनुष्य को जो भी कष्ट, जो भी पीड़ा होती है वह केवल इस शरीर के होने की वजह से है। अगर शरीर ना होता तो हमें कोई पीड़ा भी ना होती। 
जब तक शरीर है तब तक पीड़ा है जब शरीर ना होगा तो हमें पूर्ण आनंद होगा अर्थात हमें कभी भी मृत्यु से डरना नहीं चाहिए क्योंकि मृत्यु परमानंद तक प्राणी को पहुंचाती है अर्थात परमेश्वर में विलीन करके हमें ईश्वर के तत्व में समाहित कर जाती है। 
वेदांत वचनो के प्रकांड विद्वान महाराज श्री के अमृत वाणी से हम सभी के अंतर्मन में उठ रहे अनेको द्वंदों का छेदन होता रहा है और आज भी महाराज श्री यही करने का प्रयास कर रहे हैं। 
हमें पूर्ण आशा है कि उनके अमृत वचनों को सुनकर आप सभी के मन अर्थात हृदय के तमाम संशयो के जाल टूट चुके होंगे और आप सब परमानन्द जी महाराज के बताए हुए मार्ग पर निर्भय होकर चल सकेंगे। 
स्वामी परमानंद गिरि जी महाराज हम सभी को यह बताने का प्रयास कर रहे हैं कि अगर किसी से प्रेम करना है तो उससे करना चाहिए जो शाश्वत है, जो नित्य है, जो सदा से है और सदा रहेगा परंतु मनुष्य प्रेम ही संसार के प्राणियों से करता है जो कि नश्वर हैं। 
जब नश्वर से प्रेम करोगे तो कष्ट और दुख ही मिलेगा। स्वामी जी ने मीराबाई के भजन कि कुछ लाइनों के माध्यम से हम सभी को समझाने का प्रयास किया कि मीरा बाई कहती थी कि "ऐसे वर को क्या वरु जो जन्मे और मर जाये। " 
श्री राम जय राम जय जय राम 
श्री राम जय राम जय जय राम

Comments

Popular Posts